Grid View
List View
Reposts
  • yaaden 34w

    तेरा रूठना और मेरा मनाना बहुत हो गया
    अब मुझे बक्श दे
    मैं खुद की नजरों से और नहीं गिरना चाहती
    ©yaaden

  • yaaden 34w

    आधी जिंदगी मायके तो आधी जिंदगी ससुराल
    चूल्हा चौका में ही जिंदगी निकल जाती है मेरे यार
    ©yaaden

  • yaaden 34w

    रूह और जिस्म जब एक साथ ना हो
    तो दर्द बहुत होता है
    ©yaaden

  • yaaden 34w

    पता नहीं किस कदर टूटी हूँ
    क्यूँ अपने आप से रूठी हूँ
    ©yaaden

  • yaaden 35w

    मेरे गोपाला

    ना खेली है इक बार भी होली,तेरे संग बृज में मेरे गोपाला
    हो चली है ,तेरे रंग की तेरे संग की इस जहान में बातें मेरे गोपाला
    बिन रंगे ही रंग गई तेरे रंग में,होली तो बहाना है मेरे गोपाला
    रंग गई तेरे रंग में, रंग जा तू भी मेरे इश्क में,मेरे प्रीत में मेरे गोपाला
    रंगना चाहे जहान तुमसे,तू रंग जा मुझसे मेरे गोपाला
    चल खेले आज लुका- छिपी, हट जाए ये तेरा सावल और मेरी चांदनी
    तू ढूंढ़ लेना इस रंगों के बीच मुझे, ना ढूंढ़ पाए तो तू मेरा है मेरे गोपाला
    आज रंग दे मोहे रंग लाल में, रंग लाली हो जाऊं मेरे गोपाला
    भीग जाएं इस होली में दोनों इश्क की बारिश में बस यही है आश मेरे
    गोपाला

  • yaaden 35w

    हर इक बूंद

    हर इक बूंद अपने इक इक जज्बात बया करते है
    तुमने कितने बूंदों को देखा है और कितनो को समझा है
    कितनो को तुमने कहने से रोका है और कितनो को झोली में समेटा है
    कितनो को तुमने अपनी आंखो में बसा के रखा है और
    कितनो को हाथों में सजाया है
    कितनो को तुमने अपना कह पिया है और
    कितनो को अपने जज्बातों के साथ भी बया करने दिया है
    ©yaaden

  • yaaden 35w

    चाहत

    काश आसमान की चाहत न होती तो आज पंख न कटे होते
    काश समन्दर की चाहत न होती तो आज डूबे न होते
    काश इश्क की चाहत न होती तो आज दिल न टूटा होता
    काश चमक की चाहत न होती तो आज जले न होते
    काश उजाले की चाहत न होती तो आज बुझे न होते
    काश नज़ारों की चाहत न होती तो आज नजरें न बंद होती
    काश जमीन की चाहत न होती तो आज कब्र पे न होते
    ©yaaden

  • yaaden 35w

    कतरा कतरा आंसू बहाया करूंगी ,
    हर दर्द तुम्हे सुनाया करूंगी
    तड़प ना जाए तू तब तक रुलाया करूंगी
    ©yaaden

  • yaaden 35w

    मैं हर रोज टूट जाती हूँ
    तेरे प्यार में कमजोर हो जाती हूँ
    अश्क सारे तेरे नाम कर जाती हूँ
    क्यूँकि मैंने अपने नाम तड़प लिखी है
    और बिछड़ कर इसे मुझे ही पूरा करना है

  • yaaden 35w

    दफन है सारे अल्फाज़
    अब तुम्हें कौन से राज बताऊँ
    सीने में दर्द बहुत है
    कौन सी दवा लगाऊं
    ©yaaden