writtersnation

www.instagram.com/writters_nation

" Sunshine Is A Welcome. Thing It Brings A Lot Of Happiness"

Grid View
List View
Reposts
  • writtersnation 22w

    क्या खूब गवाही दी हैं तुमने मुक़द्दर अपनी मौजूदगी की,
    जो आँखों के बाशिंदे थे कभी,
    अब वो ख्वाबों में भी नहीं आते।
    -सचिन सौरभ।
    ©writtersnation

  • writtersnation 30w

    यह अधूरी सी कहानी कभी इधर जाती हैं अभी उधर जाती हैं,
    समझ नहीं पाता हूँ यह ज़िन्दगी किसी का नाम लेने भर से कैसे सवर जाती हैं।
    एक बात बताओ यह तुम्हारी यादें हैं या समंदर की लहरें रातों में इतना शोर क्यों मचाती हैं?
    ©writtersnation

  • writtersnation 32w

    अगर केवल इबादत, शिद्दत औऱ सब्र से ही सब हासिल होता,
    तो यकीनन कई मर्तबा पहले तुम्हारे नाम में हमारा नाम शामिल होता।
    -सचिन सौरभ।
    ©writtersnation

  • writtersnation 70w

    By सचिन सौरभ

    Read More

    चाहें कलाई सुनी क्यों न हो मेरी,
    हर बहन की रक्षा ज़िमेदारी हैं मेरी ।
    - सचिन सौरभ।

    आप सभी को रक्षाबंधन की शुभकामनाएं।

  • writtersnation 76w

    The Fastest Spreading Five Letter Word
    RUMOUR - Ignore It.
    The Most Valued Seven Letter Word
    SUCCESS - Achieve It.
    The Most Enviable Eight Letter Word
    JEALOUSY - Distance It.
    The Most Powerful Nine Letter Word
    KNOWLEDGE - Acquire It.
    The Most Divine Ten Letter Word
    FRIENDSHIP - Maintain It.

  • writtersnation 76w

    Difficulties In Your Life
    Do Not Come To Destroy You
    But Help You To Realize
    Your Hidden Potential
    Let Difficulties Know
    That You Are Difficult

  • writtersnation 77w

    बड़ी महफ़िल का सितारा
    दो गज़ रस्सी से हार गया,
    ज़िन्दगी की उलझन या इश्क़
    का दर्द उसे सरेआम मार गया।

  • writtersnation 77w

    OLD WOOD IS BEST TO BURN.
    OLD WINE IS BEST TO DRINK.
    OLD FRIENDS ARE BEST TO TRUST.
    AND OLD AUTHORS ARE BEST TO READ.

  • writtersnation 78w

    You Will Not Find
    Many People
    Who Will Understand You
    But You Will Find Plenty Of People
    Who Will Expect That
    You Should Understand Them.
    ©writtersnation

  • writtersnation 78w

    इश्क़ की गलियों में ना हम नए थे ना वो पुराने थे,
    उम्र जवानी के देलीज पे थी और ज़िन्दगी में न जाने कितने अफ़साने थे।
    शहर तो थे दिल के पर न जाने कितने दिनों से पड़े वीराने थे,
    हम दोनों के अपने ही कुछ गीले,शिकवे,शिकायते और फ़साने थे।
    उसके नाम पर हमने भी लिखे कुछ गीत,ग़ज़ल और तराने थे,
    मोहब्बत का नाम बदनाम तो था जमाने में लेकिन एक बार हमे भी अपनी किस्मत के ताले आज़माने थे।