vijjus8722

जीवंत हूँ मैं अपनी लेख से

Grid View
List View
Reposts
  • vijjus8722 18w

    आज

    आज बरसो बाद बीच रात नींद खुली हैं
    न किसी की याद में ,
    न किसी के साज़ में,
    न किसी की आहट पर ,
    न किसी की चाहत पर ,
    बस एक पर्दा हटा है मेरी रूह से और आज़ाद हो चला मैं अपनी गलियों में
    ©vijjus8722

  • vijjus8722 22w

    एक छोटी सी कहानी है मेरी

    जब जरूरत थी तब वो नही था

    अब मै ही नही हूँ जब सब कुछ मेरा था

    सब ख्वाहिशें पूरी की और लूट लिया उसने

    अब खैरात देने वाले हाथ एक बूंद प्यार को तरसते है

    खुद को बनाने वाली रातें नीलाम की मैंने जिसकी खातिर

    मेरे मुक़द्दर का काफिर भी वही निकला ।
    ©vijjus8722

  • vijjus8722 23w

    समझा...

    होकर गुमनाम चल गई वेशया बनकर

    ऐ ज़िन्दगी तेरी खुशी से ज्यादा लोगों ने कीमत लगाना बेहतर समझा
    तू आयी और चली गयी एक लड़कपन का बोझ इन कंधो पर डालकर

    तेरा सफर काटने से बेहतर मैंने मौत को गले लगाना बेहतर समझा ☹️
    ©vijjus8722

  • vijjus8722 28w

    Breakup

    Breakup

    ये तो कलयुग का प्रसाद है
    एक न एक दिन तो सबमें बटेगा

  • vijjus8722 30w

    तफ़्तीश-ए-मुहब्बत

    बहुत दूर तलक ढूंढा मैंने कोई उम्दा वकील

    एक हारी हुई मुहब्बत की पेशगी थी उसकी अदालत में

    बड़ी तफ़्तीश बाद एक वकील मिला मुझे

    जो उसकी अदालत से ही वक़ालत सीख मुझे ढांढस दिला रहा था।
    ©vijjus8722

  • vijjus8722 30w

    आह

    हर रात मेरा दर्द एक आह बनकर निकलता रहा

    तुम मेरा दर्द न समझ सके और मैं तुम्हारा हमदर्द न बन सका

    बस यूँही कुछ कीमती सामान खो दिया मैंने

    और तन्हाई को अपना वाज़िब बना लिया ।।
    ©vijjus8722

  • vijjus8722 31w

    आएगा...

    हो गई शाम अब तेरे यादों का पहर आएगा

    चल ज़िंदगी अब तू ठहर कोई तेरा भी मेहमान आएगा

    वो चले गए और यादें रह गयी सांसो में महकती

    अब आंखों में दर्द और दिल में सैलाब आएगा ।।
    ©vijjus8722

  • vijjus8722 31w

    आज कुछ लिखने का मन नही है बस पीछे का background इमेज देख लो ......
    ©vijjus8722

  • vijjus8722 31w



    बचपन से बातूनी था

    कुछ ऐसा करके गए तुम

    जुबां खामोश है और दिल सहमा सा…
    ©vijjus8722

  • vijjus8722 31w

    प्रेमिका

    हिम्मती प्रेमिकाएँ पत्नी बन जाती हैं

    और बाकी सब केवल कवितायेँ।।