Grid View
List View
Reposts
  • unsaidones 3w

    शब्द

    मैं अगर दूर चले जाऊं तो शायद इन शब्दों में मिलूं,
    एक नज़्म बनकर शायद तुम्हारे होंठो की मुस्कान में मिलूं...

    मुझे ढूंढने से बेहतर ,मुझे महसूस करना,,
    शायद इन हवाओं की खुशबू में बंधा मिलूं...

    तुम मेरे शब्दों को गौर से पढ़ना,
    मुमकिन है मैं लिखावट से लिपटा हुआ मिलूं...

    हो सके तो मेरी बातें, मेरे लथीफे हमेशा साथ रखना,
    किसी दिन उदास चेहरे पर मैं हसीं बनकर खिलूँ...

    ©unsaidones

  • unsaidones 20w

    अपना जीवन कुछ ऐसा हो जाये,
    मैं अलकनंदा,तू भागीरथी,हम मिल कर "गंगा" हो जाये...

    ©unsaidones

  • unsaidones 51w

    बहुत करीब से मैंने उसे , लड़खड़ाकर फिर संभलते देखा है...

    छाँव में बिठा कर हमें, ख़ुद धूप में चलते देखा है...

    एक तरफ की आंधियाँ ख़ुद सहकर, बारिश लुटाते देखा है...

    अपनी रोटी का पहला निवाला , हमें खिलाते देखा है...

    खुद की जेब भले हो ख़ाली, पर चेहरे पर मुस्कान लिए देखा है...

    महीने भर की खुशियों को, एक झोले में लाते देखा है...

    ना मंदिर ना मस्जिद में मिला, भगवान कभी मुझे दिखा नहीं...

    पर अपने घर के दरवाज़े से . मैंने पिता को आते देखा है...

    ©unsaidones

  • unsaidones 83w

    Corona

    इंसानों की बस्ती का भी अपना अलग रोना है,
    खुद को हो तो खाँसी है,
    दूसरों को हो तो CORONA है...


    STAY SAFE ❤️

  • unsaidones 84w

    नारी

    सोचा उसपर कुछ लिखूँ,
    लेकिन वह खुद एक उपन्यास है,
    जानना चाहा उसके इतिहास को,
    तब पता चला आने वाले कल की वही आस है...

    सोचा कि चित्र बनाऊ उसका,
    लेकिन वह खुद एक दर्पण है,
    देखी जब मैंने उसकी आंखें,
    तब पता चला कितना पावन मन है...

    सोचा सजाऊँ उसको फूलों से,
    लेकिन वह खुद एक फुलवारी है,
    मैं क्या करूँ उसके लिए खास,
    जब सबसे ज्यादा खास खुद वह नारी है...

  • unsaidones 126w

    .

  • unsaidones 129w

    .

  • unsaidones 129w

    बीच मझदार में वो मेरे साथ रहा,
    किनारे तक आते-आते...
    उसके हाथ में कोई और हाथ था...

    ©unsaidones

  • unsaidones 147w

    ठंड में ठिठुर रहा था,इंसान शायद वो गरीब था,
    वो रहीस का कुत्ता था सहाब,कपड़े तो उसका नसीब था...
    ©unsaidones

  • unsaidones 153w

    सहन कर रहा हूँ जो दर्द,उस दर्द का हिसाब अभी बाकी है...

    "CA" कर रहा हूँ ,रुलाने के लिए ये वाक्य ही काफी है...

    ©unsaidones