Grid View
List View
Reposts
  • truman 30w

    जहान खूबसूरत है ,बस साथ चाहिए तेरा।
    आंखो में तेरे बस प्यार चाहिए मेरा।

    #mirakee #हिंदी #kavita #anjaanladki #hindinama #hindiwriters #ishq #jindagi #life #love
    @pakhi1738 @ehsaas_dil_ka @hindiwriters @anjanas_blessings @sophiewrites_18

    Read More

    अनजानी सी कहानी में एक तू है
    जिसपे मैं पूरी कहानी लिखता हूं।
    जान पहचान तो चालू है मगर,
    तुझमें ही सारे एहसास ढूंढता हूं।

    कहानी की शुरुआत और अंत ,
    सब पहले से मै जानता हूं।
    फिर भी पता नही क्यों मैं,
    तुझे दिल से अपना मानता हूं।

    यादों के उस समुंदर में ,
    कुछ यादें तेरी रखना चाहता हूं।
    कुछ बेपरवाह सी जिंदगी,
    तेरे संग भी जीना चाहता हूं।

    ख्याल जो अब तक है जेहन में,
    उन्हें हकीकत बनाना चाहता हूं।
    मेरी जिंदगी को फिर से अब,
    एक मकसद देना चाहता हूं।

    बैठ बालकनी में तेरे हाथ की,
    अदरक वाली चाय पीना चाहता हूं।
    मिले जितने लम्हें साथ तेरे,
    उनमें पूरी जिंदगी जीना चाहता हूं।

    रात को किसी पहाड़ी पर ,
    हाथ पकड़ तेरा तारे गिनना चाहता हूं।
    झील के किनारे बैठ साथ तेरे,
    अपने पैरों को भिगाना चाहता हूं।

    पहाड़ों की वादियों में खड़े हो,
    तेरा नाम पुकारना चाहता हूं।
    समुंदर की गहराई में बस ,
    तेरे संग गोते भरना चाहता हूं।

    हिमालय के दुर्गम रास्ते,
    हाथ पकड़ चढ़ना चाहता हूं।
    गंगा की बहती ठंडी धारा का ,
    तुझे एहसास कराना चाहता हूं।

    घने जंगलों में साथ लिए,
    दूर तक चलना चाहता हूं।
    किसी गिरते झरने के पानी में,
    तुझको भिगोना चाहता हूं।

    बस किसी अंजाने सफर में तुझे,
    हमसफर बनाना चाहता हूं।
    जिंदगी के कुछ हसीन पल,
    तेरे संग गुजारना चाहता हूं।
    ©truman

  • truman 31w

    चल उठ, कब तक शोक मनाएगा
    सोचेगा तो एक दिन तेरा भी आएगा।
    गिर चुके हो तो क्या सब खत्म हुआ,
    संभल गया फिर तो सब ठीक हो जाएगा।

    मुश्किल दौर है ये तेरे लिए तो क्या,
    मौका भी तो है आगे बढ़ने का।
    गलती ढूंढ और सुधार करो उसमे,
    वरना डर है फिर से गिरने का।

    सोच ऐसा क्या खोया जो तू रोता है,
    सबके साथ जीवन में ऐसा होता है।
    देख आस पास कितने लोग है ऐसे भी,
    जिनके पास अपना कोई नही होता है।

    उठते वो भी है अपने जीवन में ,
    रोते नही है वो भी अपने खालीपन में।
    बुनते है सपने फिर से वो भी जीने के,
    हारते नही है वो कभी अपने मन में ।

    तो फिर क्यों तुम खुद को मिटाते हो,
    अपनों का ख्याल क्यू नही करते हो।
    खड़े हुए हर पल जो तुम्हारे लिए,
    उनको क्यों खुद हारकर दुख देते हो।

    बना मन और हो खड़ा कुछ करने को,
    जो हारा है जीवन में , उसे फिर पाने को।
    रुकता नही जीवन, ऐसी मुश्किलों से,
    कदम बढ़ा आगे बढ़ खुद को जिताने को।

    रख विश्वास, मेहनत से सब पाएगा।
    उस दिन खुद को तू ,ना कोस पाएगा।
    चल उठ, कब तक शोक मनाएगा
    सोचेगा तो एक दिन तेरा भी आएगा।
    ©truman

  • truman 31w

    For all those who have lots of memories to cherish of their love
    #mirakee #mirakeeworld #hindinama #hindiwriters #love #yaade #यादें #adhurapyar #hindikavita #हिंदी कविता
    @mirakee @hindiwriters @hindinama @pakhi1738
    @mirakeeworld

    Read More

    याद रह जाती है।

    कुछ रिश्तों की बुनियाद यादें है
    कुछ में की गई बहुत बाते है।
    किसी में लोगों का साथ मिलता,
    कुछ में लोग आगे बढ़ जाते है।

    कुछ लोग तरसते है यादों को,
    चाहते करना पूरा बहुत वादों को,
    सोचते है कुछ पल ही मिल जाए,
    तो जी ले वो भी कई सालों को।

    इसी कशमकश में वो ढूंढते है हमसफर,
    कोई हो जो ले चले उन्हें किसी डगर।
    जहा सिर्फ प्यार घुला हो हवाओ में ,
    सबसे यादगार बने फिर वो सफर।

    टकराते है वो फिर किसी अपने से,
    देखा करते थे जिन्हे वो सपने में।
    लगता है होंगे पूरे अब अरमान,
    लग जाते है वो उसे पूरा करने में।

    खोलकर रख देते है वो अपना दिल,
    क्यों लगते है वो उन्हें अपनी मंजिल।
    पसंद नापसंद जानकर करते ख्याल,
    बुनते है सपने फिर, वो दोनो मिल।

    भूल जाते है वो सारी उलझनों को,
    समाज की लगाई गई सारी बंदिशों को।
    देना है दुनिया भर का प्यार उसे,
    पूरा करना है बुने हुए सपनो को।

    करते है खाने से लेकर जिंदगी की बातें वो,
    उससे भी खूबसूरत हुई मुलाकाते जो।
    बस खोए रहते एक दूसरे में इस तरह,
    बनाते है जीवन भर के लिए यादें वो।

    पर यथार्थ का इनको भी है पता,
    साथ रहना मुश्किल है कितना।
    परिवार, समाज का दबाव है इतना,
    मुमकिन नहीं इन लोगो से जीतना।

    कुछ मना लेते है कैसे भी अपनो को,
    कुछ छोड़ परिवार , पूरा करते सपनो को।
    कश्मकश में कुछ रह जाते है बस,
    अलग हो जिएंगे ,उन बिताए हसीन लम्हों को

    आता समय फिर जब होना है दूर,
    दर्द में दोनो का बस जलता है दिल।
    मां बाप को लेकिन ना देना दुख,
    अलग होना पर है कितना मुश्किल ।

    बहती रहती है दोनो तरफ अश्रु की धारा,
    दिल भी रोता सोच उन्हें पूरा दिन सारा।
    धीरे धीरे मान लेते है इसे किस्मत अपनी,
    जीते है जिंदगी पूरी,ले यादों का सहारा।

    वही यादें रह जाती उनके जाने के बाद,
    वादे किए थे जो ले हाथों में हाथ।
    मुस्करा लेते है जब आती उनकी याद,
    रह जाती पर मोहब्बत अधूरी उनके साथ।
    ©truman

  • truman 31w

    मांगा ज्यादा नहीं है रब से अपने लिए,
    सिवाय तेरी खुशियां और एक प्यारा साथ।
    ©truman

  • truman 32w

    कुछ तो है बात अलग उसमे,
    बोलती है जब वो सुकून मिलता है।
    मिली है मुझे अनजान सी जगह में,
    पर जानते हो सालों से ऐसा लगता है।

    झूठे लोगो के बीच ऐसा मिलना ,
    और फिर बच्चो की तरह घुलना मिलना।
    आदत से साफ और दिल बड़ा है उसका
    सीधी बात सीधे मुंह पर बोलना ।

    सच झूठ की सारी बाते करना ,
    कुछ अपने सच भी जानती छुपाना।
    जानता मैं भी हूं जरूरी है निजता,
    पर जरूरी होती है कुछ बातें बताना।

    ख्याल भी करती है भरपूर मेरा,
    मेरे दुख को वो समझती भी है।
    फ्लर्ट करना आता नही उसको,
    लेकिन हर बात खरी लगती भी है।

    अनजान शहर की अनजानी सी,
    पर अपनी सी लगती भी है।
    मतलब की इस दुनिया में ,
    वो मेरे लिए वो सोचती भी है।

    दुआ है हर खुशी मिले उसको ,
    उसका चाहा प्यार मिले उसको।
    जरूरत नहीं मुझे उसके नाम काम की,
    बस हंसाती रहे वो सदा मुझको।
    ©truman

  • truman 32w

    शिव शम्भू सबसे दयालु,
    रहे मेरे संग, जब भी पुकारू।
    तेज इनमे है बसता,
    इनमे मेरी है आस्था ।
    समय का ये है काल,
    कहते इनको महाकाल ।
    रचियता है ये जग के,
    श्री ब्रह्म विष्णु महेश के ।
    निराकार रूप सर्वव्यापी,
    रुद्र तांडव धरती कापी।
    बुराई का विष धारी,
    इन्होंने ही दुनिया तारी।
    राम के भी यही इष्ट,
    मिटाते ये सबके अनिष्ट ।
    मालिक है ये हम दीन के,
    रूप कही है मेरे शिव के।
    मन से याद करो पाल को,
    नमन है सर्वश्व महाकाल को।

    **ॐ नमः शिवाय**
    ©truman

  • truman 34w

    Corner seat of the theater
    When we used to be there
    Reminds me of my first touch
    Though there was nothing much

    My Heart was excited with happiness
    That Little smile playing on your face
    Which makes me thrilled to see you
    You were shying away little ,well me too

    Suddenly you held my hand
    Squeezing it slowly to feel me
    I was little nervous what to do ?
    And then I suddenly kissed you .

    Those were moments I would never forget
    And that corner seat where we really met
    On that day, all my dreams came true
    And I just wanna say I still love you
    ©truman

  • truman 34w

    #mirakee #sister #brosislove #didi #hindiwriters #भाईबहन #Truman #mirakeeworld


    भाई बहन का प्यार सबसे निराला होता है। दिन भर झगड़ा और मस्ती यही इनकी दुनिया होती है।
    वैसे मेरी बहन नही है , और मेरी जिंदगी का एक हिस्सा उसके बिना खाली है। फिर भी एक छोटा सा प्रयास बहन के लिए कविता के माध्यम से।

    Read More

    किलकारियां जोर जोर से वो करती है,
    पापा की डांट मुझे जब पड़ती है,
    अजीब सा मुंह वो बनाती है
    मां मुझे जब ज्यादा प्यार करती है।

    मेरी हर बात को ऐसे बताती है
    जैसे सारी गलतियां मैं ही करता हू।
    आलसी, पागल और क्या नहीं कहती ,
    जब मैं अपने में मस्त रहता हूं।

    नखरे उसके बहुत है वैसे
    हर बात छुपाने के मांगती पैसे।
    खुद गलतियों का अंबार लगती
    पर जताती मैं बुरा हूं जैसे।

    पर हां, उसके बिना घर सूना सा लगता
    हो वो तो हर पल आसान लगता,
    मां के सुकून में वो है बसती
    पापा की मुस्कान का है वो रास्ता।

    दुखी देख मुझे वो परेशान होती,
    हर पल मेरे संग वो रहती ।
    मेरे पसंद की वो हर बात करती,
    मेरे लिए वो दुनिया से लड़ती।

    यादें उसकी ही दि हुई है
    मेरी प्यारी सी ' दी ' वही है।
    चहचहाती सी उसकी हंसी है,
    बहना मेरी, सबसे सही है।
    ©truman

  • truman 34w

    Kahte hai pyar hai magar
    Jatate kyu nahi hai.
    Narajagi agar hai kuch to ,
    Dhuye me udaate kyu nahi hai.
    ©truman

  • truman 35w

    #mirakee #writersnetwork #hindiwriters #life #जिन्दगी
    #कविता #poem


    जीना है अब मुझे
    अपनी ख्वाहिशों की खातिर।

    Read More

    नाराजगी बहुत है मुझे खुदसे
    गलतियां जो हुई है मुझसे
    व्यस्त रहा भविष्य की चिंता में,
    झूठे वादे कर रहा था खुदसे

    कह सकते हो जिंदगी जी रहा था,
    उसी नाम पर घुट घुट जी रहा था,
    अभी मेहनत कर लेता हु जी भर
    बाद में बस आराम ही आराम होगा,
    ये भ्रम का विष मैं बस पी रहा था।

    देखो अब, कितने बसंत चले गए,
    कितने अपने भी पीछे छूट गए,
    सपने तेरे भी कितने टूट गए
    आराम की चाह में कहां पहुंच गए।

    इतने बसंत के बाद भी मुश्किलें वही है,
    भविष्य की चिंता की लकीरें भी वही है,
    जो पाया अब तक , वो भी पूरा नहीं है
    जहा से चला था तू, आज भी वही है।

    छोड़ दिया बहुत
    इस गलतफहमी में ,
    बचपन के खेल, दोस्तों का साथ
    वो पहले प्यार का एहसास
    वो कॉलेज की महफिलों का साज

    वो लम्हों में जीना ,
    वो खुशियों के पल ,
    खुलकर चिल्लाना ,
    वो सुनहरा बीता कल।

    वो रास्तों को नापना,
    वो पहाड़ों पर चढ़ना,
    वो समुंदर की गहराई
    रेत पर नाम लिखना

    वो गिटार की झंकार,
    गाने पर वो डांस
    वो कहानियों के मेले
    उपन्यासों में खोना अकेले।

    हां, नाराज हूं मै इसलिए खुद से
    पर प्यार है अब भी खुद से
    अब निकलूंगा एक सफर में
    ना फसूंगा अब मै झूठे भंवर में

    लिखूंगा अपना एक सफरनामा
    उन रास्तों की चढ़ाई का
    जिन पर जाने से डरा था मैं
    जहा जाने से पहले ही मरा था मैं

    अब बसंत मेरे हैं
    ये पल भी मेरे है,
    जिऊंगा अब जी भर के
    पूरे करूंगा जो सपने अधूरे है।
    ©truman