Grid View
List View
Reposts
  • tariqu 1d

    “काम के बोझ से तो नही,

    बस थक जाते हैं तुम्हें सोचते सोचते।



    ©tariqu

    Read More

    ❤️Tarani❤️

  • tariqu 3d

    जागना भी कुबूल हैं
    रात भर तेरे साथ
    तुझ्से बात करने में जो सुकून हैं
    वो नींद में कहाँ..

    ©tariqu

  • tariqu 3d

    बस थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना
    क्योंकि ज़्यादा जान्ने वाले लोग
    अक्सर दर्द ज़्यादा दे जाते हे


    ©tariqu

  • tariqu 3d

    कुछ रिश्ते मोतियों की मानिंद होते हैं
    अगर टूट कर बिखर भी जाए
    तो झुक कर चुन लेने चाहीए ...

    ©tariqu

  • tariqu 4d

    Once broken, it takes a long time to rebuild it.


    ©tariqu

  • tariqu 2w

    “तुझको आवाज दूँ....और दूर तक तू ना मिले,

    ऐसे सन्नाटों से अक्सर मुझे डर लगता है...!

    ©tariqu

    Read More

    ❤️Tarani ❤️

  • tariqu 2w

    ख़त्म होने को
    बेकरार है
    तुम बिन ये सांसे
    बड़ी बेरुखी बेकार है
    हर लम्हा तुम बिन
    बस इंतज़ार है..



    ©tariqu

    Read More

    ❤️Tarani❤️

  • tariqu 2w

    ज़िंदगी कितनी बदल जायेगी
    अगर हम इस बात को समझ जाएं
    की नरमी से बात करने का मतलब
    बुझदिली या कमज़ोरी नहीं बल्कि
    आज़ीज़ि और आला ज़रफी है


    ©tariqu

  • tariqu 2w

    हर किसी से मेहरबानी से मिलो
    क्योंकि हर शख्स अपनी ज़िंदगी मे
    किसी जंग मे मसरूफ है !
    ©tariqu

  • tariqu 3w

    ये रात, जैसे
    संदल की
    मीठी महक में लिपटी
    ये रात,
    चांद की चमक से रौशन,
    हर लम्हा जैसे
    ज़िन्दगी से मिलाती है,
    आहिस्ते आहिस्ते
    थपकियों से
    मीठी नींद सुलाती है

    बड़ी ही हसीं है,
    आज की ये रात,
    लगता है,आज फिर
    ख़यालों में तुम हो

    लगता है फिर
    खामोशियों ने
    तुम्हारा ज़िक्र किया है



    ©tariqu

    Read More

    ❤️ Tarani❤️