sukhbansalrb

www.instagram.com/sukh_bansal_rb/

दिल की बात, कलम के साथ

Grid View
List View
Reposts
  • sukhbansalrb 4d

    बर्बाद

    बेमतलब बेवजह बेहिसाब किया हुं,
    कितनो की मासूम सी जिंदगी को बर्बाद किया हुं,
    बातो के जाल में, खुद के ख्याल में,
    उन्हें फांस लेता हु,
    इन अफसानों में, मासूम इंसानों में,
    मैं खुल कर सांस लेता हु,
    बहुत बुरा हु, अपनी मां को भी नाराज किया हु,
    दिखता मासूम हु मगर,
    कितनो की मासूम सी जिंदगी को बर्बाद किया हुं,
    खुदकी गलती को भी उनकी बताता हु,
    झूठ मूठ का सब पे ही हक़ जताता हु,
    हमदर्दी की चाहत है बहुत मुझमें,
    हर वक्त खुद को लाचार दिखाता हु,
    जिंदा होकर भी वो जिंदा नहीं,
    मौत से भी बद्तर सबके हालात किया हु,
    दिखता मासूम हु मगर,
    कितनो की मासूम सी जिंदगी को बर्बाद किया हुं।
    ©sukhbansalrb

  • sukhbansalrb 6w

    वो जान कर भी मुझसे अंजान नहीं होता अब,
    किसी की भी आंखों में मेरे लिए सम्मान नहीं होता अब,
    जिंदगी के हिसाब में शायद घाटा ज्यादा हो गया,
    चाहकर भी खुद पर गुमान नहीं होता अब।
    ©sukhbansalrb

  • sukhbansalrb 10w

    ख्वाहिशों के अपाहिज कभी चला नही करते,
    आंधियों में चिराग कभी जला नहीं करते,
    जिसने बचपन से संभाली हो जिम्मेदारी घर की,
    उन बच्चो के दिलो में ख्वाब पला नहीं करते।
    ©sukhbansalrb

  • sukhbansalrb 23w

    नफ़रत, उदासी, नाउम्मीदी में,
    कभी प्यार का फूल खिलना नही चाहता,
    तुम मुझसे बात करना चाहते हो,
    सच कहूं मैं तो खुदसे भी मिलना नही चाहता।
    ©sukhbansalrb

  • sukhbansalrb 33w

    ਕਿਹੜਾ ਰੁੱਸਿਆ ਕੀਹਨੂੰ ਮਨਾਈਏ,
    ਕਹਿੰਦੇ ਸਾਨੂੰ ਖਬਰਾਂ ਨਹੀਂ ਮਿਲਦੀਆਂ,

    ਜੋ ਦੂਜੇ ਦੇ ਹੱਕਾਂ ਤੇ ਅੱਖ ਰੱਖਣ,
    ਮਰਨ ਤੇ ਓਹਨਾ ਨੂੰ ਕਬਰਾ ਨਹੀਂ ਮਿਲਦੀਆਂ,

    ਸਭ ਦੇ ਨਾਲ ਚੱਲਣ ਤੇ ਆਪਣਾ ਭਲਾ ਸੋਚਣ,
    ਹੁਣ ਉਹ ਪਹਿਲਾਂ ਵਾਲਿਆ ਸਦਰਾ ਨਹੀਂ ਮਿਲਦੀਆਂ,

    ਇੱਜ਼ਤ ਕਰਨੀ ਹੋਵੇ ਤਾਂ ਰੋਹਿਤ ਦਿਲ ਤੋ ਕਰਿੰਦੀ ਹੈ,
    ਓਏ ਮੰਗਣ ਤੇ ਪਾਗਲਾ ਕਦਰਾਂ ਨਹੀਂ ਮਿਲਦੀਆਂ।

    #sukhbansal
    ©sukhbansalrb

  • sukhbansalrb 36w

    दिल में उठ रहे भूचाल से मै दंग सा हूं,
    रंगो के त्योहार में भी मैं बेरंग सा हूं,

    शांति चेहरे की सिर्फ बाहर से है,
    मै ख्यालों में चल रही जंग सा हूं,

    ना खुशी ना गमी का एहसास है,
    मै दिल मै दबी हुई उमंग सा हूं,

    खामोशियों की चल रही तरंग सा हूं,
    रंगो के त्योहार में भी मैं बेरंग सा हूं।

    ©sukhbansalrb

  • sukhbansalrb 37w

    ਸਮਝਾ ਰਹੇ ਹਾਂ ਦਿਲ ਨੂੰ ਕਿ ਜਿੱਦ ਨਾ ਕਰੀ,
    ਅਸੀ ਬੁਰੇ ਹਾ ਬਹੁਤ ਤੂੰ ਸਾਡੀ ਦੀਦ ਨਾ ਕਰੀ,
    ਅਸੀ ਹੰਜੂਆ ਦੇ ਹੜ ਤੋਂ ਬੁਝਾਈ ਹੈ ਪਿਆਸ ਆਪਣੀ,
    ਤੂੰ ਸਾਡੇ ਤੋਂ ਖੁਸ਼ੀਆਂ ਦੀ ਕੋਈ ਉਮੀਦ ਨਾ ਕਰੀ।
    ©sukhbansalrb

  • sukhbansalrb 38w

    दिल रोया मगर आंखों में नमी भी ना आई,
    वो खूब हंसा, चेहरे पर मुस्कान की कमी भी ना आई,

    आंखे बंद जुबां बंद लफज़ एक भी ना बोला गया,
    इश्क़ के कारोबार में भरे बाज़ार जब उसका दिल तोला गया,

    मंहगाई के जमाने में अपना सस्ता सा दिल लूटा आया,
    घर परिवार जरूरतें सब याद रहा,
    मगर पगला खुदको भुला आया,

    किसी को दोष नहीं देता, वो बस खुद से रूठा है,
    लगता है फिर किसी middle class लड़के का दिल टूटा है।

    ©sukhbansalrb

  • sukhbansalrb 40w

    खामोशियां घेरने लगी है मुझको,
    शायद कोई बाकी कसक है दिल में,

    मैंने इजहार प्यार का क्या किया,
    वो समझे शायद हवस है दिल में,

    भरोसा नहीं करता मै किसी पर भी,
    पिछली बार का बाकी सबक है दिल में,

    बात बात पर आंखें नम हो जाती है,
    अभी तक शायद थोड़ी उमस है दिल में।

    ©sukhbansalrb

  • sukhbansalrb 41w

    मै उसी राह चलता हूं जो सड़क आपके शहर जाती है,
    कातिल निगाहें और मासूम सी मुस्कराहट,
    आज भी कहर ढाती है,
    यूं तो हम किसी भी चेहरे पे फिदा नहीं होते,
    मगर उनसे नज़रें जो मिलती है तो नजर ठहर जाती है।
    ©sukhbansalrb