sonugangwar

www.instagram.com/sonu_gangwar07/

तलाश में हुँ खुद की।

Grid View
List View
Reposts
  • sonugangwar 1w

    ये 'राग' कई हिस्सों में बँटा है
    आपको जो मिले उसे पाकर खुश रहिए।
    ©sonugangwar(Raag)

  • sonugangwar 1w

    मैं तेरे शहर आया और तू मिला ही नही,
    सीधे आ जाऊं घर इतना हौसला ही नही,

    बस मलाल है मुझे कभी इश्क़ था तुझसे
    वरना तो मुझे तुझसे कोई गिला ही नही,

    सुना हैं वक़्त आने पर चीज़ मिल जाती है
    पर तेरे बाद ये वक़्त कभी चला ही नही,

    तुम रो रहे हो की आँधियाँ बुझा रही हैं
    मुझसे पूछो जिसका चराग़ जला ही नही,

    सब पूछेंगे किसने दिया तो क्या बताऊंगा
    रखा हुआ है तेरा लहज़ा मैंने सिला ही नही,

    माँ ने एक बार क्या की दुआ मेरे हक में
    'राग' मंज़िल पर है जो कभी चला ही नही।
    ©sonugangwar(Raag)

  • sonugangwar 3w

    दुआएँ देनी हैं तो मरने की दीजिये
    वरना ऐसा करिये आप रहने दीजिये,

    इश्क़ है तो सरेआम मेरा हाथ थामो
    जमाना जो कहता है कहने दीजिये,

    तुम कब तक ही दोगे साथ हमारा
    हमारे दुःख हमको ही सहने दीजिये,

    ये ऊँची इमारतें खा गईं सूरज मेरा
    ये आंधियों से ढहती हैं तो ढहने दीजिये,

    ख़्वाब,जान,वक्त,ख़ुदा किस-किस से लड़ें
    अब हमें सोना है हमें सोने दीजिये,

    सुना है इससे दर्द हल्का होता है
    'राग' आँखों से आँसूं बहने दीजिये।
    ©sonugangwar(Raag)

  • sonugangwar 3w

    क़िस्मत से कब तक गिला करेंगे
    हम कब तक छिप कर मिला करेंगे,

    तू कब तक रहेगा ख़फ़ा हमसे
    कब तक दोस्त हमारी सुलह करेंगे,

    तू सरेआम कब थामेगा हाथ मेरा
    ये लोग कब हमसे जला करेंगे,

    कब होगी हमारे इंतज़ार की सुब्ह
    हम कब तक अंधेरो से डरा करेंगे,

    क़बूल कब होंगे मेरे सज़दे 'राग'
    नवाज़ कब वो संग अदा करेंगे।
    ©sonugangwar(Raag)

  • sonugangwar 5w

    तेरे निशाँ मेरे ज़ेहन पर छाने लगे है
    हाथ थाम ले वरना हम जाने लगे हैं,

    जिसे चाहिए वो ले ले मेरी आँखों से
    वरना ये ख़्वाब हम जलाने लगे हैं,

    जरूरतें बहुत कम हो गयी हैं मेरी
    पैसे जब से ख़ुद कमाने लगे हैं,

    मुझको न तुमसे एक बात कहनी थी
    यार हम तुमको चाहने लगे हैं,

    अपने इश्क़ का सबूत क्या दूँ मैं
    मुझे लोग तेरे नाम से बुलाने लगे हैं,

    तू मुझको ख़ुद में छिपा कर रख ले
    लोग बहुत मेरे नज़दीक आने लगे हैं,
    '
    राग' तुझे सच में हो गया है इश्क़
    तेरी आँखों में आँसू आने लगे हैं।
    ©sonugangwar(Raag)

  • sonugangwar 6w

    हासिल जो भी था सब गवा चुके हैं
    हम थक हार कर घर आ चुके हैं,

    पास इनके रोने के सिवा बचता क्या है
    कच्चे मकान बारिश से दिल लगा चुके हैं,

    मेरी बातों पर तुझे यक़ीन क्यों नही आता
    हम तो क़सम तेरे सर की भी खा चुके हैं,

    अब जिसकी मर्ज़ी आकर रहे इसमें
    तेरे बाद दिल के दरवाज़े हटा चुके हैं,

    तेरा हाथ अच्छा लगता है बस मेरे हाथ में
    तुझको ये बात कितनी मर्तबा बता चुके हैं,

    यार तुम अपना नाम तो बताना हमको
    वो क्या है अब हम सब कुछ भूला चुके हैं,

    तुम हमसे मिलने अब आये हो 'राग'
    जब हम ख़ुद से बहुत दूर जा चुके हैं।
    ©sonugangwar(Raag)

  • sonugangwar 6w

    एक शहर में हैं फिर भी कहाँ मुलाकात होती है
    पहले बातें होती थीं उनसे अब बस बात होती है।
    ©sonugangwar(raag)

  • sonugangwar 6w

    अश्क़ अब आंखों में सम्भालने पड़ेंगे
    ग़ज़ल लिखना है तो ग़म पालने पड़ेंगे,

    आज आया है ख़्याल रोने का हमको
    अलमारी से तेरे खत निकालने पड़ेंगे,

    कहानी में अब वो मज़ा नही आ रहा
    इसमें क़िरदार अब नये डालने पड़ेंगे,

    शज़र-ऐ-सब्र से गर फ़ल चाहिये तो
    'राग' तुमको पत्थर उछालने पड़ेंगे।
    ©sonugangwar(raag)

  • sonugangwar 7w

    पलकों पर जो आँसू आने लग जायें
    दिल के कई दर्द ठिकाने लग जायें,

    तू हमको इतने प्यार से मत देखा कर
    ऐसा न हो हम ख़ुद को चाहने लग जायें,

    मैं उस सुबह बहुत देर से उठता हूँ
    जिस सुबह तेरे ख़्वाब आने लग जायें,

    तुम तब करना मोहब्बत का दावा जानां
    जब लोग तुम्हें हमारे नाम से बुलाने लग जायें,

    इश्क़ को एक पल में छोड़ देना
    गर दांव पर तुम्हारे याराने लग जायें,

    तुम इतना सच भी मत बोला करो 'राग'
    कि लोग महफ़िल से उठकर जाने लगे जायें।
    ©sonugangwar(Raag)

  • sonugangwar 8w

    लम्हें थोड़े हैं इन्हें काम में लिया करो
    सारा मयख़ाना एक जाम में लिया करो,

    देखना ये फिर और भी लगेगा खूबसूरत
    तुम अपना नाम मेरे नाम में लिया करो,

    यार दिन भर मुझे काम बहुत रहता है
    तुम मेरा हाल-ख़्याल शाम में लिया करो,

    ये लोग फिर तुम्हें और भी शौक़ से सुनेंगे
    तुम अपने दर्द को क़लाम में लिया करो,

    उसके होकर तुम कहीं के भी नही रहे ना
    मैंने कहा था फैसले आराम में लिया करो,

    इश्क़ तुम्हें बहुत सस्ता पड़ जायेगा 'राग'
    इस इश्क़ को तुम नीलाम में लिया करो।
    ©sonugangwar(Raag)