Grid View
List View
Reposts
  • silence_seeker 3d

    बात जब कि है जब हम अजनबी थे,
    ना एक दूसरे को देखा, ना वाकिफ़ थे |

    फिर एक दिन किस्मत ने कराई हमारी मुलाक़ात,
    जाने-अनजाने शुरू होने लगी हमारी बात |

    बातें भी ऐसी जैसे लगे अपनों सी,
    खुली आँखों से दिखने वाले सपनों सी |

    बातें होने लगीं चारों पहर दिन-रात,
    समझने लगे हम एक दूजे के जज़्बात |

    पर भूल गया था मैं की मेरी हैसियत क्या है,
    वो है सबसे अच्छी और मुझमें ख़ासियत ही क्या है|

    कुदरत ने ही कुछ ऐसा नियम बनाया है,
    स्वर्ग और पाताल का मेल आख़िर कब हो पाया है |

    फिर भी बयां कर दी बात जो थी मेरे दिल में,
    दोस्ती हमारी आ गई थी बहुत मुश्किल में |

    समझाया फिर उसने की ये सब इतना आसान नहीं,
    प्यार को समझ पाए, कोई इतना महान नहीं |

    संभाल लेंगे खुद को बस लगेगा थोड़ा वक़्त,
    दिल को पत्थर की तरह कर लेंगे सख़्त |

    अपनी कहानी को कुछ यूं अंजाम तक पहुंचते हैं,
    चलो फिर से अजनबी बन जाते हैं |
    ©silence_seeker

    @hindiwriters
    #hind

    Read More

    चलो फिर से अजनबी बन जाते हैं....

  • silence_seeker 4d

    इंसान बनने चले हैं...,
    बिना इंसानियत के...|
    ©silence_seeker

  • silence_seeker 1w

    बस कुछ आदतों ही तो ख़राब हैं...,
    ज़िम्मेदारी उठाने लायक तो हम भी हैं...|
    ©silence_seeker

  • silence_seeker 1w

    बात ना होना जैसे सज़ा हो गया...,
    बात सामने आए तो गुनाह हो गया...|
    ©silence_seeker

  • silence_seeker 2w

    बस दिल की बात कहना ही बाकी है...,
    तैयारी तो पूरी ज़िन्दगी की कर रखी है...|
    ©silence_seeker

  • silence_seeker 2w

    कभी इसकी तरफ - कभी उसकी तरफ...,
    बदलती बहुत जल्दी है दुनिया...|

  • silence_seeker 3w

    कुछ घाव ऐसे होते हैं, जिनका दर्द तो मिट जाता है, पर निशान रह जाते हैं...,
    और वही निशान हमें याद दिलाते रहते हैं, कि ज़िन्दगी में क्या नहीं करना चाहिए...|
    ©silence_seeker

  • silence_seeker 3w

    इश्क़ का दरिया भी है, पर बहेंगे नहीं...,
    मोहब्बत तो है तुमसे, पर कहेंगे नहीं...|
    ©silence_seeker

  • silence_seeker 3w

    @hindiwriters
    #hind
    #worldpoetryday
    #कविता दिवस

    Read More

    मैं हूँ, तुम हो, और ये दूरी,
    कुछ तेरी हैं, कुछ मेरी हैं, हमारी ये मजबूरी,
    थोड़ा वक़्त लगेगा, पर होगी ज़रूर पूरी,
    जो है ये हमारी कहानी अधूरी |
    ©silence_seeker

  • silence_seeker 4w

    बातें करते करते कब एक दूसरे पर हक़ जताने लगे...,
    पता ही नहीं चला...|
    ©silence_seeker