shreyapradip26

Live Love Laugh Forgive Repeat

Grid View
List View
  • shreyapradip26 5w

    Unreal

    I am painting my nights with happy lies
    Trying to have a peaceful sleep
    But as soon as I open my eyes
    The reality slowly and steadily creeps

    I have a world with a pink sky
    And a house made of snow
    Where there is no need for a cry
    Coz everything goes around in a smooth flow

    I feel happy there
    Playful like a chid
    I let down my hair
    Welcome everything with an open mind

    But as soon as I wake up in the morning
    The dream vanishes away
    And it leaves me scorning
    As I wanted that time to stay

    ©shreyapradip26

  • shreyapradip26 76w

    हर कहानी का अपना एक सच है
    हर सच के पीछे छुपा एक राज़ है।

    हर चेहरे के ऊपर मुखौटा है
    उस मुखौटे के भी अनेक रूप हैं।

    हर उभरती आवाज़ के पीछे एक वजह है
    उस वजह की वजह भी एक सांप है।

    हर गुनाह का एक कारण है
    उस कारण के पीछे एक कुसूरवार है।

    हर समाज में अपराध है
    और अपराधी को शह देने वाले भी लोग ही हैं।

    पल भर में दोषी घोषित कर दिया जाता है
    पर उस अपराध का समाधान नहीं निकल पाता है।

    रात में सड़कें तो आज़ाद हो जाती है
    पर उस पर चलते मुसाफिर की आज़ादी छिन जाती है।

    संशोधन करके सरकार तो छुट्टी लेलेटी है
    समाज में तब्दीली लाना भला कहां उसका काम है।

    यहां सब अपना धर्म निभाना तो जानते है
    पर ग्रंथों को समझना कोई नहीं चाहता।

    मासूमियत के नाम पर सज़ा भी माफ हो जाती है
    और गरीबी के नाम पे हक भी मारे जाते हैं।

    पाखंडी इस दुनिया में हर जीव का एक काम है
    और काम के अलावा उसके चरित्र लक्षण का भी ज्ञान है।

    किसने कहा कि लड़का लड़की में कोई फर्क है
    चैन की सांस तो आज दोनों के पास नहीं है।
    ©shreyapradip26

  • shreyapradip26 83w

    उसकी हर चाल कि खबर रखते हो तुम
    उसकी हर हरकत पर नज़र रखते हो तुम
    उसके हर आने जाने का पता रखते हो तुम
    उसके हर आसुं कि वजह समझते हो तुम
    रात में देर हो जाए तो फिक्र करते हो तुम
    अनजान शहर में भटकना जाए इसका ख्याल रखते हो तुम

    पर क्या कभी ये ख्याल आया है
    कि ख्याल अपना अकेले भी रख सकती है न वो
    कि अनजान शहर को अपना बना सकती है न वो
    कि टूट कर संभलना भी सीख सकती है न वो
    कि अपनी आजादी की ज़िम्मेदारी उठा सकती है न वो
    कि तुम्हारी तरह बिना डरे घूम सकती है न वो
    कि तुम्हारे बिना भी जी सकती है न वो

    उसकी आजादी में ही उसकी सांस बस्ती है
    उसका गला मत घोटो
    डर कि नहीं भरोसे कि जरूरत है
    उसको डर मत बनाओ
    उसे बस एक मौके कि तलाश है
    उसका ये हक तो मत छीनो

  • shreyapradip26 95w

    तेरी इन हरकतों से तू बाज़ नहीं आयेगा
    जितना तेरे साथ रहूंगी उतना मुझे सताएगा
    झूठी है तेरी कसमें, कब तक अब झूठ बोले गा
    मुझे तो खूब जांचा तूने, खुद को कब तू आंकेगा।

    रात भर आंख से आंसू गिरेंगे, पोंछने कभी न आएगा
    रोज़ रोज़ नई चीज़ों के वहीं पुराने बहाने दोहराएगा
    इज्जत कभी मेरी की नहीं, आगे भी नहीं कर पाएगा
    सर पे मैंने बैठाया तुझे अब तू कभी न उतरेगा।

    बोलने से तुझे कोई फायदा नहीं, ये बातें फिर हवा में उड़ाएगा
    अरसा बीत गया उम्मीद करते हुए, अब क्या आस बचाएगा
    जा जा छोड़ा तुझे तेरे हाल पे, तू क्या मुझको छोड़ेगा
    कुबूल करली मैंने बर्बादी अपनी, देखते हैं और क्या क्या आजमाएगा।

  • shreyapradip26 96w

    यूं तो प्यार से विश्वास उठ चुका था हमारा
    आपने ज़िन्दगी में आकर न जाने कोनसे तार छेद दिए
    दिल अब आपके दर से लौटना ही नहीं चाहता हमारा

    यूं तो ज़िद्द बहुत की कि कुछ नहीं हो सकता हमारा
    आपने न जाने कहां ऐसा छू दिया
    जी नहीं लगता बिना आपसे बात किए हमारा

    यूं तो सोचा हमने आपके जाने पे एक भी आंसू नहीं निकलेगा हमारा
    आपने न जाने कौनसा ऐसा जादू कर दिया
    कि उल्टे पैर आपके पास चल देते हैं पैर हमारे

    यूं तो दिल आपने भी तोड़ा है हमारा
    आपने न जाने कौनसी ऐसी मोहब्बत सीखा दी
    कि दिल खुद ही मरहम लगा कर वापस चला जाता है हमारा

    यूं तो प्यार से विश्वास उठ चुका था हमारा
    आपने ज़िन्दगी में आकर न जाने कोनसे तार छेद दिए
    दिल अब आपके दर से लौटना ही नहीं चाहता हमारा

  • shreyapradip26 96w

    और प्यार था उसे मुझसे
    परेशानी में अकेला छोड़ गया
    और प्यार था उसे मुझसे
    रात भर आंसुओं का बांध खोल गया
    और प्यार था उसे मुझसे
    गुस्से में जो मन में आया वो बोल गया
    और प्यार था उसे मुझसे
    बिना कुछ समझे फैसला ले गया
    और प्यार था उसे मुझसे
    जितनी बार हाथ थामा, वो भूल गया
    और प्यार था उसे मुझसे
    मेरे सपनो को अनदेखा कर गया
    और प्यार था उसे मुझसे
    हर खुशी के मौके पर नमी दे गया
    और प्यार था उसे मुझसे
    दर्द के साए में मुझे छोड़ गया
    और प्यार था उसे मुझसे

  • shreyapradip26 120w

    दोस्ती मेरी तेरे लिए महज एक एहसान रही
    जा तुझपे फिर एक एहसान किया आज मैंने
    छोड़ दिया आज साथ तेरा, चाहे आंखें मेरी नम रही
    जा तोड़ रही हूं वो दीवार जिसके इठ मिलकर जोड़े थे तूने मैंने

  • shreyapradip26 126w

    दूध का जला छाछ भी फूंक फूंक कर पीता है
    आज इस बात का पता ज़िन्दगी ने हूबहू दे दिया।

  • shreyapradip26 136w

    ये वही सड़क है, जहाँ दिन के उजाले में
    इन्सान खुद को अकेला नहीं पाता
    ये वही सड़क है, जहाँ रात के अँधेरे में
    इन्सान की चीखें भी है दब सी जाती
    जहाँ दिन में एक लाश भी अन्देखी हो जाती है
    जहाँ रात एक औरत को खींचकर उसे गाड़ी में बैठा लिया जाता है
    जहाँ दिन में ये नामर्द किसी के पीछे छुप जाते है
    जहाँ रात में ये अँधेरे को सहारा बनाता है
    जहाँ दिन में ये किसी के बाप भाई या बेटा होते है
    जहाँ रात में सिर्फ एक मर्द जिसका कोई ईमान नहीं होता है
    जहाँ दिन में एक नई शुरुवात होती है
    जहाँ रात में किसी की ज़िन्दगी खत्म हो जाती है
    जहाँ दिन में औरतों के लिए दिन मनाया जाता है
    जहाँ रात में औरत को बिस्तर गर्म करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है
    तो आखिर कबतक इस दिन और रात के फर्क को अँदेखा करें?
    ये वही सड़क है, जहाँ दिन के उजाले में
    इन्सान खुद को अकेला नहीं पाता
    ये वही सड़क है, जहाँ रात के अँधेरे में
    इन्सान की चीखें भी है दब सी जाती

  • shreyapradip26 137w

    इन आँसू की कीमत पानी समान होती हैं
    इन्है किसी के लिए भी बहाना गलत होगा
    इस ज़ुबान की कोई कद्र नहीं होती
    तो किसी को उम्मीदें देना भी गलत होगा
    इन खुशीयों के ज़िम्मेदारी हमारी होती है
    किसी और को इसका हकदार बनाना गलत होगा
    ये लड़ाईयाँ हमारी खुद की होती हैं
    किसी और को इसका जीत सौंपना गलत होगा
    इन आँखों की चमक हमारी होती हैं
    किसी और के साथ इसे बाँटना गलत होगा
    इन आँसू की कीमत पानी समान होती हैं
    इन्है किसी के लिए भी बहाना गलत होगा