Grid View
List View
  • shreedapoetry_vaishali 18w

    आज की युवा पीढ़ी Shakespeare
    को तो बेहतर जानती है
    मगर प्रेमचंद जी को जानती है या नही,मालूम नही

    ©vaishalithakur🕊

  • shreedapoetry_vaishali 18w

    हसीनों के जलवों पर मर गया इंसा
    शर्म को परदों में ढँक दिया गया

    ©vaishalithakur🕊

  • shreedapoetry_vaishali 19w

    टूटे हैं दिल कई
    जाति- धर्म के चक्कर में


    🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂
    बिछड़ने के बहाने ना होते
    झूठे कोई फ़साने ना होते

    जाती-धर्म में क़ैद न होते रिश्ते गर,
    फिर मोहब्बत के रास्ते आसान होते
    🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂
    ©shreedapoetry_vaishali🕊

  • shreedapoetry_vaishali 20w

    एक सहेली की नसीहत
    -Tehzeeb Hafi🌸


    ©shreedapoetry_vaishali🕊

  • shreedapoetry_vaishali 24w

    "If you want to win the heart,
    then win the heart of your parents"

    ©shreedapoetry_vaishali🕊

  • shreedapoetry_vaishali 24w

    "बरकत होती है तभी,
    जब माँ-बाप का हाथ सर पर हो"

    ©shreedapoetry_vaishali🕊
    २१-६-२१

  • shreedapoetry_vaishali 24w

    कृष्ण 🌸

    तोसों लाग्यो नेह रे प्यारे, नागर नंद कुमार।
    मुरली तेरी मन हर्यो, बिसर्यो घर-व्यौहार॥
    दीपक को जो दया नहिं, उड़ि-उड़ि मरत पतंग।
    'मीरा' प्रभु गिरिधर मिले, जैसे पाणी मिलि गयो रंग॥

    मीराबाई
    ©shreedapoetry_vaishali9🕊

  • shreedapoetry_vaishali 24w

    अभी इक शोर सा उठा है कहीं 
    कोई ख़ामोश हो गया है कहीं 

    है कुछ ऐसा कि जैसे ये सब कुछ 
    इस से पहले भी हो चुका है कहीं 

    Jaun Elia
    ©shreedapoetry_vaishali

  • shreedapoetry_vaishali 24w

    चोखट पर मेरी आकर चिल्लाओगे,
    मुझे मनाना है ये कैसे जान गए हो।

    ©shreedapoetry_vaishali

  • shreedapoetry_vaishali 24w

    नमस्कार,
    कैसे हैं आप सभी?
    अच्छे ही होंगे और अगर तकलीफ़ में हैं तो उस तकलीफ़ को किसी से ज़ाहिर करें फिर आप देखेंगे कि आपको कई हद तक बेहतर महसूस होगा,
    पर बताए भी उसे ही जिस से आपको सच में positivevibe आती हो लेकिन जो सुने न समझे उनसे कुछ भी ज़ाहिर करने से अच्छा ख़ुद तक ही सीमित रखें,🌸
    नही तो फिर आप diary बना ले उसमें लिखे और अगर diary में भी नही लिखना चाहतें है कि कोई पढ़ ना ले तो उसे काग़ज़ पर लिखें और उस काग़ज़ को फाड़ कर,छोटे-छोटे टुकड़े कर के फेंक दे या तो फिर उसे जला दें,ऐसा करने से आप काफ़ी हद तक अच्छा महसूस करेंगे।इस प्रकार से किसी के प्रति होने वाली भड़ास भी दूर हो जाती है।🤣
    चलिए,
    अब ज़रूरी बात पर आते है मैं ऐसा ही कुछ करने जा रही हूँ जैसा कि आप अभी ऊपर पढ़ रहे थे हम एक पत्र के ज़रिए अपनी भावनाओं को या अपनी कुछ यादों को share करेंगे वो real भी हो सकती हैं या फिर imagination भी हो सकती है आप अपने उन thoughts को मुझे लिख भेजिएगा मैं आपके शब्दों को पत्र के ज़रिए अपने पेज पर पोस्ट करना चाहूँगी,
    आप नाम mention करना चाहेंगे तो नाम mention किया जाएगा अथवा अज्ञात लिख कर हम letter कम्प्लीट करेंगे।♥️
    तो अब आप बताइएगा कि क्या आप ख़ुद से जुड़ी यादों या कल्पनाओं को मेरे साथ share करना चाहेंगे ??🕊

    ©vaishalithakur🕊
    Instagram 👇🏻
    @shreedapoetry_vaishali9

    Read More

    क्या आप अपनी यादों
    और कल्पनाओं को
    share करना चाहेंगे?


    ©shreedapoetry_vaishali