shivshi

My Instagram @shivshi_writingdreams

Grid View
List View
Reposts
  • shivshi 26w

    एक कुर्ती थी
    जो तुमने खरीदी थी
    तुम्हें जिस दिन खोया
    पता नहीं कैसे पर
    मैंने उस दिन वही पहनी थी
    अब डर लगता उसे पहनने में माँ
    पर संभाल कर रखा है उसे
    तुमसे जुडी़ आखिरी पल की यादें जो है उसमें

    कैसे एक कपड़े ने सजों रखे हैं न
    अच्छे बूरे दोनों पल|


    ©shivshi

  • shivshi 31w

    तुम कहीं जाती थी तो
    मन डरा रहता था माँ
    तब तक, जब तक
    तुम वापस नहीं आ जाती|

    इस बार क्या गई
    डर भी गया
    पीछे कूछ छूट गया
    तो वो है
    तुम्हारी यादें
    वेदनाओं का संसार
    और हम
    निडर से सहमें हुए|
    ©shivshi

  • shivshi 32w

    कितना समय लगता है कूछ भूलने में
    इस समय का लेखांकन कौन करता है?
    ©shivshi

  • shivshi 33w

    ख्वाहिशों के बस्ती में जिम्मेदारियों का बसेरा है
    नींदें भले अधूरी हो, हौसला पूरा है|
    ©shivshi

  • shivshi 38w

    माँ तुम्हारे बिना सिर्फ घर ही नहीं
    मन भी खाली हो गया|
    एकदम वीरान|
    ©shivshi

  • shivshi 42w

    ख्वाबों का रंग नहीं होता,
    पारदर्शी होते हैं ये
    जो रंग हम में है
    जो रंग तुम में है
    उसी रंग की परछाई होती हैं इनमें
    कुछ धुंधली सी, कुछ उजली सी
    जो कि समयानुसार स्पष्ट हो जाती हैं
    और आखें धुधंली|
    ©shivshi

  • shivshi 43w

    कूछ पन्ने किताबी हो जाते हैं
    खो जाते हैं किताब के अस्तित्व के साथ साथ ही
    कभी बरसों बाद जब खुलती हैं वे किताबें
    किसी और किताबों की खोज में
    तब मिलतें है वे पन्ने किसी पूरानी याद की तरह |
    ©shivshi

  • shivshi 50w

    Sometimes things need to be unsaid.
    Because when said, it lost its affinity.

  • shivshi 56w

    कैद हैं हम
    चार दिवार में
    किसी किरदार में
    खुद अपने ही विचार में
    दूरदर्शन पर चल रहे किसी समाचार में
    या सूबह घर पर आए उस अखबार में
    बस कैद हैं हम
    कभी
    सत्ता के अहंकार में
    मिले हुए हर अधिकार में
    जिम्मेदारीयों के खूले बाजार में
    किसी पूराने चित्रहार में
    जीवन के श्रृंगार में
    या उसके संहार में
    बस कैद हैं हम|

    कहाँ कहाँ से रिहाई मांगेंगे?
    ©shivshi

  • shivshi 56w

    The colorful butterflies at the edge of river
    roaming around the flower
    I left on the sand last night.

    I remember how those flower
    made me have butterflies in my stomach
    last night.

    I imagine butterflies flying around
    Where those flower grows.

    These flower and butterflies came so far together.
    .
    .
    What if flower dries?
    ©shivshi