Grid View
List View
Reposts
  • shiv__ 2w

    जिल्लत उसका मुकद्दर नही।
    जो सीरते मुस्तकीम पर चले।।
    ---

  • shiv__ 2w

    उनसे कह दो आज एक तलब कर रहे।
    उनके लिए उनकी वफा की दुआ कर रहे।।
    ©shiv__

  • shiv__ 7w

    Unknown

    Read More

    बस एक तुझसे मुलाकात की ख़्वाहिश थी।
    यूँ तो मेरे फोन मे तेरी तस्वीर बहुत सारी थी।।

  • shiv__ 9w

    चलते हुए गिरे वो फिर माँ की बाहों में।

    चलना है उसे जमीन पर।
    गिर कर वो फिर उठ जाता।।
    आस जुड़ी है कैसी देखो।
    हर पल मन मे चढ़ा जुनून है।।

    हर नया सबेरा इक नई आश।
    लाता है मन में इक नई उत्साह।।
    आशा से ही मन में विश्वास जगा।
    फिर चलना है उसे जमीन पर।।

    नये राह पर नये लोग मिलेगे.....!!
    ©shiv__

  • shiv__ 11w

    आग लगी है मयखाने मे और वो तब भी मुस्कुराए जा रहे है।।
    नशा शराब का हो या उनकी मोहब्बत का वो सब भूलाए जा रहे हैं।।
    ©shiv__

  • shiv__ 12w

    थोड़ी सी लाइट,
    लाइट पे नज़रें,
    ये मुस्कुराता चेहरा और,
    इनके बीच तुम खुबसूरत लग रहे हो।
    ©shiv__

  • shiv__ 13w

    मुस्कुराते हुए चेहरे पर उन,
    होठो की पंखुड़ियो का खिलना!!
    इन आँखो का उनसे मिलना,
    और उनकी आँखो मे डूब जाना!!
    हसीन रात मे होठो का मिल जाना,
    और उनके प्यार मे खो जाना!!
    मंद मुस्कुराती ये शाम तेरी बाहों मे,
    दिल की धड़कन को तेज कर रही थी.....!!
    ©shiv__

  • shiv__ 15w

    मुस्कराते होठो को हवा ने चूम लिया।
    हम पिछे रह गए और वो वक्त निकल गया।।
    ©shiv__

  • shiv__ 17w

    छोटी छोटी बातों में अब दिन रात गुजर जाता है।
    ऐसे देखो अब अपनो के लिए वक्त कहाँ मिलता है।।
    ©shiv__

  • shiv__ 19w

    फूल अपनी खूशबू तब बिखेरता है,
    जब उसे सुबह-सुबह इकठ्ठा किया जाए।।
    ©shiv__