sahil12345

www.youtube.com/user/saahil3288

poet of romantic couplets. आओ कभी profile पे whatsapp +91 9929216439

Grid View
List View
Reposts
  • sahil12345 8w

    बिखरी ज़ुल्फ़ें अपनी वो समेट रही है आज
    अपने आशिकों को बिखेर रही है आज
    ©sahil12345

  • sahil12345 9w

    उस शोख़ हँसी चंचल का चेहरा है इत्ता मासूम
    कि सोते वक़्त भी वो मेरा क़त्ल करती है
    ©sahil12345

  • sahil12345 16w

    कल की बज़्मे-शबाना याद रहेगी मुझे
    अजबर करा दी उन्होंने मुझे अपनी हर अदा मुझे
    ©sahil12345

  • sahil12345 16w

    कभी...

    कभी शाम की तन्हाइओं में मुझसे मिल
    मेरी बेताबिए दिल तुझको बतानी है ज़ालिम
    ©sahil12345

  • sahil12345 18w

    मुलायमी, रेश्मी, नूरे आफ़ताब,
    नक़हते फूल जिस्म तुम्हारा

    न जाने किस सांचे में
    ढलकर आई हो
    ©sahil12345

  • sahil12345 20w

    अक़ीदा-ए-उल्फ़त - प्यार की श्रद्धा

    Read More

    चल किसी और जहान में चलते हैं जानम
    यहाँ तो लोग अक़ीदा-ए-उल्फ़त समझते ही नही
    ©sahil12345

  • sahil12345 20w

    घायल होने का मन है आज
    श्रंगार नहीं सादग़ी से सजकर आना
    ©sahil12345

  • sahil12345 20w

    हरहफ्त - श्रंगार का सामान

    Read More

    हरहफ्त अपने तू इस्तेमाल किया कर मेरे ज़ालिम
    तेरी सादगी तो मेरा क़त्ल कर देती है
    ©sahil12345

  • sahil12345 20w

    जबसे तेरी सोहबत तेरी क़ुर्बत पाई है मैंने
    अमीरी और ग़ुरबत की विसाल देखी है ज़ालिम
    ©sahil12345

  • sahil12345 21w

    मौलाना का औहदा पा लिया मैंने
    अब मंदिर में तेरी इबादत होगी
    ©sahil12345