rim__writes

www.instagram.com/rim__writes/

kalam ki nok ✍ par rakh di zindgi kar li man ki or ruth gai zindagi.��

Grid View
List View
Reposts
  • rim__writes 2w

    ��������

    Read More

    ये ज़िंदगी जितनी बेरहम हो रही संग मेरे,
    शायद इसे पता नहीं जिस दिन मैं बेरहमी पर उतरी सीधे खत्म कर दूंगी इसे ।
    ©rim__writes

  • rim__writes 2w

    �� साज़िश��

    Read More

    एतराज़ नहीं मुझे तेरे दूर जाने से मसला तो सारे तेरे पास आने का है,
    यूँ किसी और से रूठकर तेरा मुझसे जी बहलाने की ये साज़िश कमाल का है ।
    ©rim__writes

  • rim__writes 2w

    just make an habit to ignored these type of people. (。>﹏<。)

    Read More

    When people feel alone, they come to make you feel lonely from whole world by connecting with yourself.
    ©rim__writes

  • rim__writes 2w

    #comeback #with #ग़ज़ल....❤

    Read More

    हाल-ए-दिल वो तमाम बिखेर गए,
    जीते जी हम बेमौत ही मर गए ।

    किसी अनजान से एक ऐसी उम्मीद कर गए,
    एक मुद्दत तक वो पन्ने दर पन्ने नम कर गए ।

    हम हकीकत से मुह फेरते गए,
    वो सफ़र नामा ही अधूरी कर गए।

    देखते देखते ज़िंदगी के अजीब से किस्से बन गए,
    कुछ वक़्त ने भी सिखाया कुछ लोग पराये कर गए।
    ©rim__writes

  • rim__writes 6w

    ��������

    Read More

    काफ़िर भी लगता है , कुछ ख़ुदा भी है इश्क,
    मुझमें शामिल होकर, कुछ जुदा भी है इश्क ।
    ©rim__writes

  • rim__writes 6w

    लफ़्ज़ों में सिमटे तो इश्क़ बिखरे तो ज़माने का फ़साना है,
    बेहतर से बेहतरीन की खोज यह तो आशिक़ो का पुराना बहाना है ।
    ©rim__writes

  • rim__writes 6w

    हम नारी है.....,
    इसलिए सुनते आए है की आज
    बाप की तो कल किसी और की जिम्मेदारी है,
    क्यों ये नहीं कहते हम भी जिम्मेदार है लाखों जिम्मेदारी उठाने की हमे भी बराबर की हकदारी है,
    क्यों थोपते हो हमे दुसरो पर हमे भी
    आज़ादी के महत्व की जानकारी है,

    हाँ हम नारी है.....,

    कभी पुरुषों की तुलना में हमे भी आगे
    रख कर तो देखो,
    अपनी आँखों से ये बरसो पुरानी धुल
    के छींटे धोकर तो देखो,
    साफ साफ नज़र आएगा तुम्हे घूँघट
    से लेकर महिला पायलट तक का सफ़र,

    क्या दर्शाती हैं हमे....,
    क्यों तड़पाती है यह सब तुम्हे,
    सह नहीं पाते हो तुम खुद को पिछड़ा
    हुआ देखकर तो फिर क्यों ललकारते
    हो सक्षमता हमारी,
    जब समझ जाओ तुम क्या है नारी,
    खुद ही शर्म से झुक जाएगी नज़रें तुम्हारी ।

    ©rim__write

    #Happy_International_women's_day♥

    Read More

    महिला दिवस पर कुछ....♡

    अनुशीर्षक पढ़े !
    ©rim__writes

  • rim__writes 7w

    बेइन्तहां मोहब्बत है तुमसे ,
    बस इस बात की ही शिकायत है ज़माने को हमसे ।
    ©rim__writes

  • rim__writes 7w

    उन्हें क्या पता कोई तुम्हे खुशियां देकर खुद कैसे जीता है ,
    जब खुद पे बीते तो समझ आती है माँ बाप से बढ़कर इस जहाँ में कौन दुःख में जीता है ।
    ©rim__writes

  • rim__writes 7w

    �� बेजुबां कलम ✍ ��
    .
    .
    #mirakee#pod#writerstoli#writersnetwork

    Read More

    कभी किताबों में किस्से पन्ने पलटते हुए बड़े शौक से पढ़ते थे हम,
    फिर वक़्त की मार ने कुछ पन्ने ज़िंदगी के मेरे भी पलट दिए ,
    अब हर दिल के किस्से अपनी बेजुबां कलम से गढ़ते हैं हम ।
    ©rim__writes