Grid View
List View
Reposts
  • psprem 2h

    अपनी उदाशियों को, कब तक छुपाओगे।
    मैं पूछती हूं तुमसे क्या मुझे नहीं बताओगे।
    ऐसे उदास होकर जाने कभी ना दूंगी तुम्हें।
    प्यार किया है तुमसे, क्या चुपचाप चले जाओगे।
    ©psprem

  • psprem 2h

    तेरी मोहब्बत का मुझपर, होने लगा असर।
    दिल धड़कने में अब ना रखता कोई कसर।
    तेरे ही ख्यालों में खोई रहती हूं रात दिन,
    नींद भी आती नहीं अब शाम ना सहर।
    ©psprem

  • psprem 4h

    खुद पर नहीं भरोसा,वो भरोसे की बात करता है।
    झूठ बोलने वाला,दिन को साबित रात करता है।
    जज़्बात उसी के होते हैं,जो दिल के सच्चे होते हैं।
    जिसे दिखावे की है आदत,वो खुराफात करता है।
    ©psprem

  • psprem 5h

    ये दुनियां का दस्तूर है भाई।
    ना किसी का कसूर है भाई।
    दौलत चाहे कितनी भी बेइमानी
    से कमाई हो।मगर उसकी रखवाली
    के लिए चाहिए कोई ईमानदार ही भाई।
    ©psprem

  • psprem 5h

    उनकी नजर में हम,उनके काबिल न थे।
    मासूम थे हम बहुत,मगर मुकम्मल न थे।
    मायूस करके चले गए,वो फिर लोटे नहीं।
    शायद हमारी मोहब्बत के कायल न थे।
    ©psprem

  • psprem 15h

    हम साथ रहे, पर दूर रहे।
    क्यूं हम इतने मजबूर रहे?
    ये केवल तेरी जिद थी,
    पर हम तो जी हुजूर रहे।
    ©psprem

  • psprem 16h

    आने वाला आयेगा,जाने वाला जायेगा।
    दिल को रखो खुश,खुशियां मनाएं जा ।
    पता नहीं हम सब का कितना साथ है,
    जब तक हैं प्यार से प्यार को बढ़ाए जा।
    ©psprem

  • psprem 17h

    तलाश जारी है,मगर कब तक?
    दिल की आवाज,अंतिम सांस जब तक।
    ©psprem

  • psprem 17h

    खुशियां मना रही हैं, लहरें मचल रही हैं।
    अठखेलियां समंदर में हलचल मचा रही हैं।
    शायद तलाश उनकी अब पूरी हो रही हैं,
    किनारों से मिलने को बेताब हो रही हैं।
    ©psprem

  • psprem 20h

    प्यार

    मिलते नहीं अगर तुम,तो हम यूं बेजार न होते।
    गर तुमने कहा न होता, तो हम यूं ताबेदार न होते।
    आए थे बादल बनकर,तुम धूप में हमारे,
    हम तो झुलस ही जाते,तुम छायादार न होते।
    कश्ती तो डूब ही जाती, तूफान में हमारी,
    साहिल के हाथों में,अगर पतवार न होते।
    लम्बे सफ़र के बाद, बैठे थे हम अकेले,
    यादें तेरी ना होती, तो ये इंतजार न होते।
    तस्वीर तेरी मेरे दिल के, आइने में रखते हैं,
    हम कैसे करते हिफाजत,अगर संस्करण होते।
    उनके लिए सजाया, ये फूलों का गुलदस्ता,
    उनके लिए ना होते तो,इतने खुशबूदार न होते।
    सब लोग कहते हैं, ये दुनियां नहीं होती,
    अगर दो दिल नहीं मिलते, तो ये प्यार न होते।
    ©psprem