prakriti2005

Lost soul searching for some peace in writing.

Grid View
List View
Reposts
  • prakriti2005 30w

    तेरी मासूम सी बातें,
    बिलखती ममता की वो रातें,
    माँ, सब छूटता चला गया।
    तेरी वो चहकती सी आवाज़,
    छिपाए जैसे लाखों राज़,
    माँ, सब धुँधलाता चला गया।
    तेरा वो प्यार से सिर पर हाथ फेरना,
    और फिर डाँटकर मुझे मनाना,
    माँ, तेरा वो स्पर्श जाने कहाँ गुम होता चला गया।
    तेरी वो दबी सी सिसकियाँ,
    हज़ारों तूफानों से थरथराती तेरे मन की खिड़कियाँ,
    माँ, सब शून्य में विलीन होता चला गया।
    तेरा मुझे दिलासा देना,
    कहीं ना जाने की कसम खाना,
    माँ, क्यूं वो हर वादा टूटता चला गया।
    तेरी छुअन का अहसास,
    तेरे कहीं पास ही होने की एक आस,
    माँ, हवा के हर उस झोंके में है,
    जो मेरी रूह को छूकर गुज़रता है।
    तेरी आवाज़ ना सही,
    तेरे शब्द, तेरी सीख,
    प्रेरणा बनकर आज भी साथ हैं।
    आँखों के सामने ना सही तू,
    ख्यालों में, सपनों में,
    तू आज भी मिलती है।
    कितना कुछ बदल गया ना माँ,
    लेकिन पता है,
    तुझसे जुड़ा ये रिश्ता,
    हर पल और भी मज़बूत होता चला गया।
    ©prakriti2005

  • prakriti2005 31w

    Funeral

    If someday, I die,
    encoffin me inside my loneliness
    bury me in the soil
    drenched with my hidden tears
    for the inferno entrapped inside me
    still lights brighter
    and dreadful than the lit pyre.
    If someday, I die,
    forgive me
    and obliviate me
    for my existence so obscure
    for you to espy
    even in the brightest of the moments
    and my emotions so ambiguous
    for you to comprehend
    even in the most vulnerable jiffies.
    If someday, I die,
    don't read any eulogies
    for you never knew me
    but for one last time
    try to look at that heart
    so broken, shattered and unfixed.
    If someday, I die,
    I'd never return
    for the guilt inside me
    would've scooped out the life within
    and I'd never live again!
    ©prakriti2005

  • prakriti2005 33w

    Vultures

    It breaks me to the core seeing how they try to efface her existence, her memories from this abode bit by bit.
    ©prakriti2005

  • prakriti2005 34w

    ...and then you came into my life and I knew that love is definitely not a chain of responsibilities or possession; love is the other name for freedom! And I instantly knew what you meant the other day when you had said, "you're free!" You freed the caged me!
    ©prakriti2005

  • prakriti2005 34w

    वक़्त के चंद सियाह और कुछ उजले धागों के इख़्तियार से बनी एक कठपुतली हूं मैं... कभी सर्दियों की नर्म धूप सी तो कभी ख़िज़ा‌ की शाम सी ढली हूं मैं!
    ©prakriti2005

  • prakriti2005 38w

    The nature tries hard to keep me aloof from the close one and I try harder to cherish whatever bit of them is left with me because that part of them in me never disappears!
    ©prakriti2005

  • prakriti2005 39w

    Fourth gear

    There's always enough time to run your life in the fourth gear when there's too much of emotional traffic! There's always enough time to hit the brakes of life, slow down and think!! Because that's how it works, none would want to jeopardize it.
    ©prakriti2005

  • prakriti2005 39w

    दूरी!

    ख़ुद के कितना क़रीब मगर फ़िर भी कितना दूर...!
    ©prakriti2005

  • prakriti2005 44w

    वक्त

    नाराज़गी ज़ाहिर करने तक का वक्त नहीं देते और फिर पूछते हैं हमें आपसे नाराज़गी क्यों है!
    ©prakriti2005

  • prakriti2005 53w

    अपनों की डांट-फटकार को दिल से नहीं लगाया करते; ज़िंदगी का क्या भरोसा कब वो डांट ही गायब हो जाए, वो डांटने वाला इंसान ही चला जाए और कभी सुनने को ही ना मिले!
    ©prakriti2005