• mamtapoet 9w

    तेरी ही साँसों के फेरे है,
    जो मेरी धड़कनों को घेरे है।
    चाहे हो जाएं कितने खफा,
    जिस्म कब रूह का साथ पहले छोड़े है।