• imgarima 17w

    जिस ऊँगली को पकड़ के तूने चलना सीखा,
    वो ही ऊँगली पकड़ कर छोड़ आया,
    जिसने दिया ये जीवन दान तुझे,
    उन्हें ही तूने ऐसा दिन दिखाया,
    घर होते हुए भी जिन्हे,
    बेघर कर दिया,
    नए रिश्तों के खातिर,
    बरसो का रिश्ता तोड़ दिया,
    देर से ही सही तुझे भी समझ आएगा,
    जब तेरे साथ भी ऐसा ही सलूक किया जाएगा,
    मगर तब अफ़सोस का भी कोई फायदा न होगा,
    जो आज भी कदर नहीं की तूने,
    तो क्या पता कल ये मौका न होगा...!

    ~गरिमा प्रसाद
    ©imgarima