• travelling2hell 49w

    ये पोस्ट-मार्टम है मोहब्बत का। ना कत्ल है ना ख़ुदकुशी ना मौत, बस एक लावारिस लाश है। वो सीधे कह देते तो कर देते मामला रफा-दफा। जो उनकी ख़ामोशी से उम्मीदें थीं, वो बेजान पड़ी है मेरे सामने मेज़ पर।

    Read More

    दिल लगा के सूकून और चैन ना उनपर खो देते,
    काश के शक़्ल सूरत के साथ, हम दिल के भी कुछ बुरे होते।


    ©travelling2hell