• drishya_95 31w

    बोली

    और फ़ितरत देखो इस ज़माने की,
    तुम्हें हमसे और हमें तुमसे रिश्तों की अहमियत सिखा रही हैं।

    ©drishya_95