• niti_s_1 58w

    हाथों से वक्त निकलता जा रहा है इस ख़ोज में
    शायद मुझको मैं मिल जाऊं कहीं किसी रोज़ में ।
    ©niti_s_1