• anshulaftaab 17w

    रास नहीं आ रहा था, ये शहर अभी तक...

    चलो अब दिल लगाने का, कोई ज़रिया तो मिला..

    "अंशुल"

    ©anshul