• stewpid_ 113w

    आज फिर बना है तमाशा किसी की मौत का बाजार में
    खुद खुशी नहीं कतल था वो खबर उठी है अवाम में
    अरे ये तो चार दिन की चांदनी है जनाब
    कल फिर लगेगी फिल्म किसी कातिल की
    और तुम भी लगे दिखोगे टिकट की कतार में