• lafzonkikahani 15w

    हर रोज का तेरा झगड़ा,ये हर रोज की मेरी माफी,
    इश्क़ किया है तुझ से,अब और गुलामी ना होगी।।
    ©lafzonkikahani