• krati_sangeet_mandloi 39w

    श्री राम नवमी

    राम नाम के जाप से, मिले मुक्ति का धाम ।
    प्रेम भाव मन में जगे, हृदय विराजे राम ।।

    चैत्र मास नौवमी तिथि, लिए हरि अवतार ।
    सबहि को है तार दिया, कीर्ति छाई अपार ।।

    रामजन्म के पर्व में, गूँजे जय-जय राम ।
    भगति से पूरन हुए, सब जन के है काम ।।

    धर्म हानि जब-जब हुई, लिए हरि अवतार ।
    सत्य है विजयी हुआ, किया दुष्ट संहार ।।

    क्षमा त्याग की मूरत, मोरे प्रभु श्री राम ।
    मोक्ष द्वार खुल जावे, जौ ले रघुवर नाम ।।

    मर्यादित जीवन का, देते रघुवर सार ।
    वचन मान को राखिये, किजै सत आचार ।।

    ©Krati_Sangeet_Mandloi
    (21-04-2021)✍️