• kpardeep 35w

    Saah (सांस)

    हुन जिन्दगी दा रिहा ना कोई बसा, पता नहीं केहड़ी कड़ी मुक जाना साह,ना जाने रब ने केहडा चक्कर चलाता, चंगे पले बंदे नू पढ़ने पाता.

    किने माड़े हालात हो गए, कई बेसहारा ते कई अनाथ हो गए, हे मेरे मालका दे दे सबना नू सुख दा साह, हुन जिन्दगी दा रिहा ना कोई बसा पता नहीं केहड़ी कड़ी मुक जाना साह.

    रिश्ते सी जो खून दे ओह वी अपनिया नू छड़ के पज्ज गए, जीहना ने खवाया सी ओहना नू रज के, गंगा किनारे पैइया लाशा दा ढेर वेख के हो गया मेरा मन स्वाह पता नहीं केहड़ी कड़ी मुक जाना साह.

    दुनियां विच राज कोरोना दा हो गया, जवान पुत्त मावां दा मौत दी नींदे सो गया, पता नहीं 'प्रदीप' बंदे तो केहड़ा हो गया गुनाह समझ ना लगे मैनू केहडी कड़ी मुक जाना साह, हुन जिन्दगी दा रिहा ना कोई बसा.

    Hoon jindgi da riha na koi vasa,
    Pta nhi kehdi kadi muk jana saah,
    Na jane rabb ne kehda chakker chalata
    Change pale bande nu padne paa ta.

    Kine maade halaat ho gaye,kai besahara te kai aanath to gaye, hey mere malka de de sabna nu sukh da saah,hoon jindgi da riha na koi vasa,pta nhi.......

    Rishte si jo khoon de o v apnea nu chhad k paj gaye jihna ne khawaiya c ohna nu rajj k,Ganga kinare paian lashan da ter vekh k ho gaya mera mann sawah pta nhi kehdi kadi.....

    Duniya vich raj corona da ho gaya jawan putt maawa da mout di neende so gaya,pta nhi 'pardeep' bande to kehda ho gaya gunah samjh na lagge mainu kehdi kadi muk jana saah hoon jindgi da riha na koi vasa.


    ©kpardeep