• saanjh__ 8w



    एक अल्हड़ बचपने की तरह
    मिट्टी के गुल्लक में
    जमा किए हैं मैंने
    कई अकेली रातों के सितारें

    जब से बूढ़ी दादी-मां से सुना था कि
    इन सितारों में तुम्हारा कोई अपना रहता है!!

    ©सांझ