• mithyasach 118w

    पतवार

    कोशिशों के भंवर में
    फंस कर ,हार न जाना!
    उठना ऊपर ,बढ़ना आगे
    अपनी अलग पहचान बनाना।
    हिम्मत साहस जोश की
    पतवार पकड़ना,खेते जाना।
    न होता है मालूम किसी को
    पार किनारा कितना दूर;
    फिर भी पा जाते वो साहिल
    भरते जोखिम रखते दिल
    जिनके हर ख्याल में मंज़िल!!
    ©mithyasach.