• amaanshah_ 93w

    मुझे हिसाब ज़रूर देना ए ज़िन्दगी
    मेरे ख्वाबों की लागत पर ब्याज कितना है।

    उसके दिए ज़ख्म नहीं भरते
    तू बस ये बता मुझपर इल्जाम कितना है।��।

    Read More

    Broken heart