• writersclub 119w

    आजमाना अपनी मोहब्बत को पतझड़ में दोस्त,
    सावन में तो हर पत्ता हरा नजर आता है ।
    ~ अभी

    ©writerspocket