• tariqu 10w

    कभी कभी ज़िंदगी इन रास्तों पर चल पड़ती है जो हमारे लिए बना ही नहीं होता, कभी कभी हम खुदको उन लोगों को सौंप देते है जो हमारी परवाह ही नहीं करते,
    कभी कभी हम खुद ही खुद को रुसवा करवाते है, अपनी तज़लिल की वजह खुद ही बन जाते है, कभी कभी दिल अजनबियों से जा मिलता है जिनके लिए हम कुछ भी नहीं होते मतलब इन्हें हमारे होने ना होने से कोई फ़र्क नहीं पड़ता,,,,

    दिल की दुनिया भी अजीब होती है साईं! जो एकबार इसे जीत लेता है फिर वो चाहकर, लाख कोशिशों के बावजूद दिल से नहीं उतर पाता।

    हम खुद ही अपने दुश्मन होते है, खुद ही अपने लिए अज़ीयत का सामान जमा करते है, फ़िर भला औरों से शिकवा शिकायत कैसी ....

    ©tariqu

    Read More

    ❤️Tarani❤️