• harish8588 51w

    कुछ नाराज़गी भी जरुरी है,अल्फ़ाज़ों की हिफाज़त के लिए
    वरना चंन्द लफ़्ज़ों में मोहब्बत, कहाँ मोहब्बत कहलाती है !!
    ©harish8588