• ruchitashukla 86w

    वोह तेरे गुलाबी होठों की जुम्बिश नशीली आँखों का जादू!
    महकती झुलफे सुहानी रात का जादू!
    आगोश मे मेरी शरमाया हुआ चेहरा!
    लबों की थरथराहट सुरीली बातो का जादू!
    वो तेरा मुस्कुराना शरमा के तेरा पलके झुकाना लेना!
    मेरे जज़्बातो पर हावी तेरे जज़्बातो का जादू!
    वोह तेरी अरसाई आँखों में मेरी चाहत का नशा!
    वोह मद्धिम रोशनी मे प्यार की बरसात का जादू!
    मुदत हो गयी तुम से बिछड़े पर ना उतरा मेरे सर से
    वोह पहेली रात का जादू!
    ©ruchitashukla