• lafze_aatish 19w

    अजब ज़िन्दगी

    चूले को फूँकती फुकनी धुँवा उड़ाती नीर बहती,
    कभी सुखी रोटी तो कभी कोयले के स्वाद सी है ज़िन्दगी!

    खारे  पानी का समंदर प्यासे की  प्यास  बढ़ाती,
    मीठे तालाब की झील सूखे गले को दवाग देती है ज़िन्दगी!

    नि:शब्द

    ©lafze_aatish