• jazz_baaatt 140w

    शायरी को मेरे भनक‌ लग गई
    के दिल को इश्क की झनक लग गई

    गुस्ताखियां करने लगी है शायरी बेबाक होके
    लफ़्ज़ों की जवानी मचलने लगी है बेताब होके
    इश्क में ज़हर भी संजीवनी सा लगने लगा है
    अल्फाज़ों का आलम दिवाना सा होने लगा है

    शायरी मेरी मदहोश है
    सच कहना तुम्हें होश है?
    शायरी मेरी मदहोश है
    सच कहना तुम्हें होश है?

    तारीफों के ऐसे पुल बांधे
    तेरा दिल, दिल नहीं फ़िरदौस है

    दीवाना दीवाना तेरा दीवाना हुआ
    शब्दों का सारा ज़ख़ीरा मेरा
    लिखता है बस दिखता है कुछ ना तेरे सिवा…

    दीवाना दीवाना तेरा दीवाना हुआ
    शब्दों का सारा ज़ख़ीरा मेरा
    लिखता है बस दिखता है कुछ ना तेरे सिवा…
    तेरे सिवा…

    रौशनी तेरे अहसास की
    रातों में जैसे दिन का उजाला
    किताबी सा कुछ कर बैठा ज़िया
    था कहानियों में जैसा पढ़ा

    दीवाना दीवाना तेरा दीवाना हुआ
    शब्दों का सारा ज़ख़ीरा मेरा
    लिखता है बस दिखता है कुछ ना तेरे सिवा…

    शायरी मेरी मदहोश है
    सच कहना तुम्हें होश है?
    शायरी मेरी मदहोश है
    सच कहना तुम्हें होश है?

    तारीफों के ऐसे पुल बांधे
    तेरा दिल, दिल नहीं फ़िरदौस है

    ©jazbaaatt_rlpanwar