• pen_fighter 181w

    लिखी चिट्ठियां लिफाफों में बेकरार थी तुम तक जाने को,
    मेरे आंगन से तुम्हारे घर तक अब कबूतर उड़ते कहाँ है पर।।।


    ©pen_fighter