• mrig_trishna_ 17w

    बदनामियाँ मिली थी हमें ऐहतराम की
    बोली हमें भी रख ले शौहरत तमाम थी
    ©mrig_trishna_nomore