• writersclub 124w

    इस सफर में मेरे साथ चलना
    कि मैं लड़खड़ाता बहुत हूं ,
    हो सके तो मेरा हाल पूछ लेना ,
    मैं सबसे छुपाता बहुत हूं ,
    कोई बात जो मुझे पीछे रोक रखी है
    उसकी धुन में मैं आजकल गाता बहुत हूं
    अपने अंदर समंदर छुपा के
    मैं चेहरे पर हंसी लाता बहुत हूं ।

    ©writerspocket