• dedestined 15w

    जाहिल

    शहरी और
    ग्रामीण होने से
    जाहिल होने का
    कोई लेना-देना नहीं...

    शिक्षित और
    निरक्षर होने से
    जाहिल होने का
    कोई लेना-देना नहीं...

    संग्राम और
    लाड़ की परवरिश से
    जाहिल होने का
    कोई लेना-देना नहीं...

    लोग कहते हैं 'पुराने लोग मिट्टी से जुड़े होते हैं! कुत्ता पालना फैशन है, गाय रखना सेवा है' और ना जाने क्या-क्या!

    ज़मीनी हक़ीक़त ये है
    कि लोग गाय "रखते" हैं, और
    चारा नहीं खरीदते
    गाय रास्ते पर चरती है, और गाड़ियों के नीचे आती है,
    बछड़ा पैदा हो, तो उसे गाय से दूर बांधकर
    भूखा रखकर मार डाला जाता है (बछिया को "गाय" बनाया जाता है)
    "मिट्टी से जुड़े" लोगों के द्वारा

    इस देश में
    जहाँ ट्रेन से
    पीने का पानी पहुँचना पड़ता है...
    पढ़े-लिखे लोग
    रोज़, हर रोज़! गैलनों पानी बहाते हैं
    अलार्म नहीं टंकी में लगवाते

    कहाँ तक लड़ लीजिये...
    पड़ोसियों से
    घरवालों से!

    ये "रिश्तेदार" होते हैं, रिश्ते निभाते हैं!
    ये 'इंसान' होना भूल जाते हैं?

    ©dedestined