• blogger_writingss 35w

    पहला प्यार

    तेरी आँखों में देखा तो हर ख़ुशी दिख गयी
    सोचती हूँ क्या था तेरी आँखों में जो मैं खिल गयी
    अजीब सा महसूस कुछ कर रही थी मैं
    अलग सी चमक कुछ थी मेरे चेहरे पे
    सोचा बताऊँ किसी को
    पर क्या बताऊँ पता नहीं क्या था वो एहसास
    कौन था तू भूल न पायी
    रातों को काफी कोशिश के बाद भी सो न पायी
    सवाल से घिरी, उलझन मन की सुलझा न पायी
    ढूंढ रही थी तेरी आँखों को
    जहाँ देखा था पहले तुझको
    पूछ रही थी सबसे पर अनजान थी
    कि तू देख रहा था मुझको
    दिल मेरा धड़का ज़ोरों से
    जब टकराई मेरी नज़रें तुझसे
    पता नहीं फिर क्या हुआ
    खो गए हम दोनों पूरे दिल से बदल गयी मैं पूरी
    बन गया तू दुनिया मेरी
    वो बातें वो मुलाकातें बन गयी थी आदत मेरी
    हम दोनों और हमारा साथ सबसे प्यारा था
    वो पहली नज़र का, वो मे