• syeddanishabdi 132w

    वक़्त की बात

    वक़्त वक़्त की बात होती है
    दुनिया कब किसी के साथ होती है

    छोड़ जाए जो बुरे वक़्त में
    उसी पल अपनो की पहचान होती है

    मैं तो खामोश रहता हूँ अब
    न जाने फिर क्यों महफ़िल में मेरी ही बात होती है

    खौफ़ नही है मुझे अब मौत का
    मेरी माँ की दुआ हर वक़्त मेरे साथ रहती है

    सय्यद दानिश आब्दी ✍️