• emotionsinked 128w

    हमने जीन अपनों से उम्मीदें
    लगाए थे,
    दरअसल वो कभी अपने थे ही नहीं
    वो तो बस जाने पहचाने पराये थें ।