• _archita_ 17w

    सिफारिशें तेरे साथ ही अब करते नहीं....
    साजिशें तुझसे मिलने की अब होती नहीं....
    शामिल तुझे दुआ में करते जरूर है ....
    मगर तेरी मौजूदगी अब मांगते नहीं...
    मोहब्बत की रूहानियत भी नहीं...
    ना मसले हल करने की वजह है कोई ....
    मेरी जिंदगी में अब तेरे मायने नहीं ...
    कि
    तू अब मेरे लिए कुछ नहीं।।

    ©_archita_