• happy81 23w

    चलो प्यार कम कर देती हूँ तुम्हारी खातिर..
    तुम्हे मेरी परवाह घुटन लगती होंगी..
    मेरा टोकना, मेरा रोकना.. मेरा ज्यादा प्यार..
    दिल में चुभन लगती होंगी...
    चलो कम कर देती हूँ अपना प्यार...
    तुम्हे जब चाह होती है की सितारे देख लो तुम..
    मैं तुमको सूरज के इरादे भी बताती रहती हूँ..
    तुम्हे जब चाह होती है अपने अलग अलग होने की..
    मैं तुममे शामिल मेरी धड़कन सुनाती रहती हूँ..
    पर तुम समझे नहीं मैं नाकाम होती रही..
    चलो कम कर देती हूँ अपना प्यार..
    रास्ते, गाड़िया सुनसान रातें.. छीन लेती है सब्र मेरा..
    जब कहीं घऱ से दूर जाते हो तुम..
    स्विच ऑफ रखते हो अक्सर फ़ोन अपना..
    काटते काटते जब थक जाते हो तुम..
    मेरी खैर खबर ऊबन देती है तुम्हे..
    चलो प्यार कम देती हूँ.. तुम्हारे खातिर..
    चलो...!!..

    ©happy81