• anshuman_mishra 5w

    कौन आएगा?
    1222 1222 1222 1222

    Read More

    कौन आएगा?

    अंधेरा है वतन में अब, सहर बन कौन आएगा?
    परिंदों के घरों खातिर, शजर बन कौन आएगा?

    कि सूखा पड़ गया है, खून से सींची ज़मीनों पर..
    दोबारा सींचने को फिर लहर बन कौन आएगा?

    किसी मां की बंधी हैं उंगलियां मन्नत की डोरी से..
    "अभी आजाद ज़िंदा है" खबर बन कौन आएगा?

    चलो खलिहान में हैं काटनी बंदूक की फसलें,
    भगत का साथ देने को, कहर बन कौन आएगा?

    कि बाहों में लिपट जाने का भी अपना मज़ा है पर..
    लिपटकर के तिरंगे में अमर बन कौन आएगा?

    _अंशुमान___