• mrig_trishna_ 6w

    तुम मुझें जज़्बात की गहराई न पढ़ाओ
    मैं डूब के उभरा हूँ इन्हीं ख्वाबों की झीलों से
    ©mrig_trishna_