• abkk_15 26w

    जिंदगी अब है उस मुकाम पे जहा हम
    सोच रहे है...

    राहत की सांसे, अपने हर पल की यादे हम
    खोज रहे है...

    वक्त का मूल्य समझ आते ही उसकी कदर
    कर रहे है...

    जी किसने कहा कि हम लापरवाही की हद पार
    कर रहे है...

    हम तो सिर्फ़ कुछ पाने के असूल से आगे
    बढ़ रहे है...


    ©abkk_15