• vaibhav007 21w

    कुछ तो था तेरे मेरे दरमियां।

    Read More

    आँखो मे तेरे साये। चाहूँ तो हो ना पाए,
    यादोँ से तेरी फासले हाए।
    जाके भी तू ना जए,
    ठहरी तू दिल मे हाए,
    हसरत सी बनके क्यूँ भला।
    क्यूँ याद करता हूँ? मिटता हूँ, बंनता हूँ।
    फरियाद करता हूँ।
    मुझको तू लाई ये कहाँ?