• drusha 51w

    प्रीत की रीत न जाने मनवा,,,,,,,,,,,,,,

    इक आँख रोए दूजी भी रोए,,,,,,,,,,,,,,,
    चैन कहा मन पाए रे मनवा,,,,,,,,,,,,,,,,,,

    बिछड़ कल पर बरसो लागे,,,,,,,,,,,
    नैना दिन रैन तके पथ मनवा,,,,,,,,,,,,

    भाषा नैनो की पड़ न पावे ,,,,,,,,,,,,,,,,
    ठगा हुआँ सा मेरा मनवा,,,,,,,,,,,,,,,,

    प्रीत कहा ऐसी कर पावे,,,,,,,,,,,,,,,,,
    धरती गगन मगन हो मनवा,,,,,,,,,,,,,,,,

    दिन और रैन वैरी हो पावे,,,,,,,,,,,,,,,,
    रोए- रोए कजरा बहे मनवा,,,,,,,,,,,,,,,,,

    कर्मं गति की जो कोई पावे,,,,,,,,,,, ,,,,
    हरि हरे सबहै पीर मोरे मनवा,,,,,,,,,,,,,,,

    Read More

    मनवा